विद्या ददाति विनयम्

Blog / Content Details

विषयवस्तु विवरण



अनेकार्थी (अनेकार्थक) शब्द किन्हें कहते हैं? इनके उदाहरण || Anekarthi (Anekarthak) Shabd suchi

ऐसे शब्द जिनके एक से अधिक अर्थ हों तथा वे अलग-अलग भावों या अर्थों के प्रदर्शन हेतु वाक्यों में प्रयुक्त होते हों, उन्हें अनेकार्थी शब्द कहते हैं।
नाम से ही स्पष्ट है - अनेकार्थी = अनेक+अर्थी अर्थात कई अर्थ वाले।
नीचे अनेकार्थी शब्दों की सूची वर्णमाला क्रम के अनुसार दी गई है -

'अ' से शुरू होने वाले शब्द -

1. अर्क = सूर्य, मदार का पौधा (आक का पेड़), रविवार, बड़ा भाई, पंडित, ताम्र, इन्द्र, स्फटिक, रस।
2. अंक = चिह्न, लेख, अदद, भाग्य, धब्बा, गोद, शरीर, नाटक, का एक भाग, कागज की बिंदी, अवयव, नम्बर (संख्या)।
3. अंग = शरीर, अवयव, अंश, भेद, पक्ष, सहायक, प्रिय, पार्श्व, वेद के छह, गौण वस्तु, उपाय, भाग, मेंद, उपाय, वदन, शाखा।
4. अंतर = समय, भेद, अवसर, छिद्र, आकाश, अवधि, अंतर्धान, पर्दा, मध्यवर्ती, फासला, रुकावट, फर्क, बीच, फासला, मध्यवर्ती, अवकाश, ओट, काल, व्यवधान, अवसर, अवधि।
5. अमृत = स्वर्ण, जल, दूध, पारा, अन्न का एक रस जिसे पीकर देवता अमर हुए, यज्ञ की बची हुई सामग्री।
6. अर्थ = धन, कारण, प्रयोजन, व्याख्या, मतलब, ऐश्वर्य, इंद्रियों के विषय, अभिप्राय, कारण, धन लिए।
7. अलि = भौंरा, बिच्छू, सखी, पंक्ति।
8. अरुण = सूर्य, सूर्य का सारथी, प्रातः कालीन, लाल रंग, गुड़, कुंकुंम, सिंदूर, माघ महीने का लाल।
9. अक्षर = भाग, भाज्य, अंक, कंधा। वर्ण, अविनाशी, अकारादि वर्ण, आकाश, धर्म, तपस्या, मोक्ष, जल, सत्य, नष्ट न होने वाला, ईश्वर, तप, विष्णु, परमात्मा।
10. अज = वज्र, बकरा, ब्रह्मा, दशरथ का पिता, शिव, मेघ, राशि, जन्म न लेने वाला।
11. अक्ष = रथ, सॉप, कील, पुल, पहिया, ज्ञान, धुरी, आँख, एक बाट, मंडल, धुरी, आत्मा।
12. अम्बर = कपड़ा, आकाश, एक सुगंधित द्रव्य, वस्त्र, कपास, अवरक, एक इत्र, बादल, अमृत।
13. अपेक्षा = जरुरत, आकांक्षा, आवश्यकता, आशा, इच्छा, बनिस्बत।
14. अतिथि = मेहमान, साधु, अपरिचित व्यक्ति यज्ञ में सोमलता लाने वाला, राम का पोता या कुश का बेटा।
15. अहि = सूर्य, सर्प।
16. अग्नि = आग, बहिन, हुताशन, तीन की संख्या।
17. अन्न = अनाज, भात, सूर्य, पृथ्वी, जल, प्राण, सुधा, जल, अन्न, दूध, पारा, घी, स्वर्ण, मुक्ति, औषध, सुस्वादु वस्तु।
18. अनंत = आकाश, अविनाशी, विष्णु, शेषनाग, बलराम, असीम।
19. अग्र = श्रेष्ठ, मुख्य, सिरा, पहले, आगे, एक राजा का नाम।
20. अधर = आत्मा नीचे, निचला, होंठ, अन्तरिक्ष, धरती और आकाश के बीच में परमात्मा, सूर्य, अग्नि, ब्रह्मस्वरूप, स्वभाव, धर्म, मन, सह।
21. अपवाद = कलंक, वह प्रचलित प्रसंग जो नियम के विरुद्ध हो।
22. अध्यक्ष = सभापति, विभाग का प्रमुख, इंचार्ज।
23. अनल = आग, पाचन रस, परमेश्वर, जीव, विष्णु, एक वानर, एक मुनि, कृतिका, नक्षत्र।
24. असली = मौलिक, वास्तविक, युद्ध।
25. अक्षर = क्षय से रहित, अविनाशी, नित्य, शाश्वत, आत्मा, जल, भूमि, ब्रह्मा, वर्ण, गगन, सत्य, धर्म, मोक्ष, तपस्या, शब्द, वायु।
26. अंबर = वस्त्र, बादल, कपड़ा, कपास, अमृत।
27. अचल = पर्वत, भूधर, भूमि, स्थायी, दृढ़।
28. अच्युत = जो खण्डित न हो, अटल, विष्णु व उनके अवतार।
29. अनाथ = स्वामी रहित, निराश्रित, दीनहीन, बिना माँ-बाप, लावारिस।
30. अनु = बराबर, पीछे, प्रत्येक, उपसर्ग, अव्यय, निपात।
31. अन्न = अनाज, धान, पृथ्वी, सूर्य, पका हुआ भोजन।
32. कर्क = सूर्य, वज्र, आग, वृक्ष, पंडित, जेठा।
33. अर्थ = शब्द का आशय, हेतु, प्रयोजन, धन, मानना, स्पर्श, रूप, इच्छा, प्रार्थना, मूल्य।
34. अग्र = पहला, मुख्य, नोक, लक्ष्य, आरम्भ, समृ, शिखर, अगला।
35. अधर = होंठ, मध्य, बीच में, शून्य।
36. अटक = अकाज, एक नदी, अड़चन, रोक।
37. अनंत = अक्षय, असीम, जिसका अंत न हो, रुद्र, शेषनाग, लक्ष्मण, मोक्ष, बलराम, आकाश, तक्षक, नक्षत्र।
38. अमृत = सोना, घी, सोमरस, जल, देवता, सूर्य, समुद्र मंथन से प्राप्त चौदह रत्नों में से एक, पारा।
39. अर्जुन = रूप, इन्द्र का पुत्र, मोर, एक वृक्ष का नाम, पाण्डु के तीसरे पुत्र।
40. अदिति = पुत्र, वाणी, पृथ्वी, प्रकृति, देवताओं की माता।
41. अनुयायी = पीछे चलने वाला, अनुसरण, दास, कर्ता।
42. अनुशासन = उपदेश, आज्ञा, महाभारत में एक पर्व, लोक प्रशासन।
43. अनुसंधान = प्रयास, शोध, खोज, कोशिश।
44. अरूण = सूर्य, सूर्य का सारथी, कुमकुम, अफीम, गरुण, लाल रंग, एक आचार्य का नाम।
45. अनुष्ठान = प्रयोग, कार्य का आरम्भ, नियमतः कार्य करना।
46. अलि = भौंरा, सहेली, कोयल, शराब, कौवा, कुत्ता।
47. अवकाश = विश्राम का क्षण, छुट्टी, जगह, समय।
48. अपवाद = नियम के विरुद्ध, कलंक।
49. अवस्था = स्थिति, उम्र, दशा, आयु।
50. अवैध = गैर कानूनी, नाजायज।
51. अशुद्ध = असत्य, अपवित्र, गंदा।
52. अतिथि = मेहमान, यात्री, कुश का बेटा, यज्ञ में सोमरस लाने वाला।
53. अपेक्षा = आशा, आवश्यकता, इच्छा, बनिस्बत।
54. अभय = भय से रक्षा, शिव, निडर, निरापद, परमात्मा, एक यात्रा मुहूर्त।
55. अंक = गोद, भाग्य, चिह्न, डिठौना, स्थान, संख्या वाचक, परिच्छेद, अध्याय, देह।
56. अज = शिव, शक्ति, ईश्वर, बकरा, चन्द्रमा, सूर्य का रथ, वीथी, कामदेव, ब्रह्मा, दशरथ के पिता, एक नक्षत्र।
57. अंकुर = नोक, डाभ, कली, अनी, संतति, उगा, नया, तृण, रोआं, जल।
58. अक्ष = सूर्य, चौसर के पासे, पहिया, आत्मा, जन्म का अंधा, आँवला, रुद्राक्ष, तराजू, धुरी, चक्र, सर्प, गरुड़, सुहागा।

'आ' से शुरू होने वाले शब्द -

1. आम = आम का फल, सर्वसाधारण, सामान्य, मामूली, दुःख, पीड़ा।
2. आग्नेय = अग्नि से उत्पन्न, सुवर्ण, रक्त, कृतिका नक्षण, कार्तिकेय, प्रतिपदा तिथि, ब्राह्मण, अग्निकोण, अग्निपुत्र।
3. आकार = स्वरूप, कद, संघटन, चिह्न, चेष्टा, बुलावा।
4. आँख = नेत्र, दृष्टि, निगरानी, पहचान, परख, ध्यान।
5. आँक = संख्या, भाग, चिन्ह, लकीर, गोद, अक्षर, अंश, नौ मात्राओं का एक छंद।
6. आँचल = साड़ी का पल्लू, कपड़े का छोर, प्रदेश, सिरा।
7. आकर = कोष, खान, स्रोत, खजाना।
8. आगम = ज्ञान, आना, होनहार, वेद, भविष्य।
9. आज्ञा = आदेश, अनुमति।
10. आदि = आरम्भ, पहला, प्रारम्भिक, वगैरह।
11. आराम = वाटिका, विश्राम, सुविधा, राहत।
12. आत्मा = ब्रह्मा, पुत्र, वायु, बुद्धि, देह, जीवात्मा।
13. आचार्य = गुरु, महा पंडित, प्रोफेसर, प्रिंसीपल।
14. आश्रम = तपोभूमि, आश्रय- स्थान, जीवन के चार अंगों में से एक।
15. आपत्ति = एतराज, विपत्ति, प्रश्न।
16. आब = पानी, चमक, छवि, शोभा।
17. आली = सखी, मान्यवर, पंक्ति, गीला।

'इ' से शुरू होने वाले शब्द -

1. इष्ट = ध्येय, समीपी, काम्य देवता, परात्मा।
2. इन्द्र = देवराज, अंतरिक्ष का देवता, वर्षा का देवता, मेघ, राजा, रात्रि, दाहिनी, स्वर्ग का स्वामी।
3. इन्दु = कपूर, चन्द्रमा।
4. इमली = वनस्पति का एक प्रकार, खट्टा पदार्थ, वृक्ष।
5. इमरती = एक प्रकार की मिठाई, आभूषण, गोल रचना।
6. इंगित = संकेत, इशारा, तात्पर्य।

'ई' से शुरू होने वाले शब्द -

1. ईश्वर = प्रभु, स्वामी, अमीर, आदर्श, ईश, राजा, समर्थ, स्वामी, धनवान।
2. ईख = गन्ना का पेड़, चीनी, पोंडा।

'उ' से शुरू होने वाले शब्द -

1. उपरी = ऊपर की, फालतू (आमदनी), दिखावटी (शान)।
2. उत्पात = दंगा, शरारत, उद्यम, हो-हल्ला।
3. उपसँहार = इति, किसी ग्रंथ का अंतिम अध्याय, समाप्ति, सारांश, सार तत्त्व।
4. उत्तर = हल, जवाब, पीछे, उत्तर दिशा, प्रतिकार, पिछला, श्रेष्ठ, गौण उत्पत्ति, पैदावार, नयी उक्ति, मनगढ़ंत बात, बाद का (गणित में), फल,पीछे आने वाला, अतीत, वाम।
5. उग्र = तीव्र, क्रूर, भयानक, कष्टदायक।
6. उगना = उदय होना, पैदा होना, प्रकट होना, निकल आना।
7. उपचार = सेवा, चिकित्सा, ईलाज।
8. उच्च = श्रेष्ठ, बड़ा, उठा हुआ।
9. उतरना = कम होना, ठहरना।

'ऋ' से शुरू होने वाले शब्द -

1. ऋण = कर्ज, दायित्व, उपकार, घटाना।

'ऐ' से शुरू होने वाले शब्द -

1. एक्का = एक घोड़े की सवारी, ताश का एक बूटी वाला पत्ता, एकता।
2. एकाक्ष = काना, कौआ।

'ऐ' से शुरू होने वाले शब्द -

1. ऐरावती = इरावती नदी, इंद्र का हाथी ऐरावत की पत्नी, बिजली, वटपत्री।
2. ऐनक = चश्मा, लैंस, आँखों की सुरक्षा हेतु पहनी जानी वाली वस्तु।
3. ऐश = आराम, सुख, आनन्द, मौज-मस्ती।

'ओ' से शुरू होने वाले शब्द -

1. ओखली = मूसल का स्थान, धान्य हेतु सहायक।
2. ओर = तरफ, जगह, बीजों की बुआई का एक प्रकार।

'औ' से शुरू होने वाले शब्द -

1. और = तथा, एवं, दो वाक्यों के मध्य प्रयोग किया जाने वाला शब्द।
2. औसत = बीच का, सामान्य, साधारण।
3. औरत = स्त्री, अर्धांगिनी, जोरु।

'क' से शुरू होने वाले शब्द -

1. कल = मशीन, सुख, बीता दिन, आने वाला दिन।
2. कला = हुनर, कौशल, एक अंश।
3. कर = हाथ, टैक्स, किरण, हाथी की सूँड, ओला, राजस्व, छल।
4. काम = कार्य, पेशा, धंधा, वासना, कामदेव, लालसा, मतलब।
5. कोटि = करोड़, प्रकार, श्रेणी, धनुष का सिरा।
6. कृष्ण = काला, भगवान कृष्ण।
7. कंचन = सोना, धन दौलत, निर्मल, काँच, संपत्ति, धतूरा।
8. काल = समय, मृत्यु, यमराज, क्रिया के तीन रूप, अवसर।
9. कपाल = खोपड़ी, भाग्य, ढ़क्कन, अंडे का छिलका, खाजड़ा।
10. कंठ = घेघा, गर्दन, स्वरनलिका, स्वर, समीप्य, हँसली, किनारा।
11. कक्ष - कमरा, काँख, श्रेणी, भूमि, सूखी घास, कछौरा।
12. कमल = पानी में होने वाला पौधा, जल, ताँबा, सारस, आँख का कोया, मूत्राशय, एक दानव के नाम।
13. कमला = लक्ष्मी, धन, संतरा, रूपवती स्त्री, ढोला।
14. कलश = घड़ा, मंदिरों या मकानों के शिखर पर कँगूरा, चोटी।
15. कान = सुनने की इंद्रिय, चारपाई का टेढ़ापन, तराजू का पासंग, नाव की पतवार, रंजकदानी, कडाही आदि वर्तनों का दस्ता या हैंडल।
16. कुत्ता - श्वान, बंदूक का घोड़ा, क्षुद्र, लपटौवा।
17. केश = कमरा, काँख, श्रेणी, भूमि सिर के बाल, रश्मि, वरुण, विश्व, विष्णु, सूर्य।
18. कोठी = हवेली, बड़ी दुकान, अनाज रखने का कुठला, गर्भाशय।
19. कपि = बंदर, हाथी, कंजा, सूर्य, विष्णु।
20. कवि = कविता रचने वाला, कलविद, तत्त्वचिंतन, ऋषि, ब्रह्मा, शुक्राचार्य, अग्नि, सूर्य, वरुण, आत्मा, लगाम।
21. किनारा = तट, हाशिया, सिरा, पार्श्व।
22. कील = किला, खंभा, नाक का एक गहना, मेख।
23. कुंडली = इमरती, गोल रचना, गेंडुरी।
24. काम = कार्य, नौकरी, काम वासना, कृति, कढ़ाई, आदि।
25. काल = समय, मौत, यमराज।
26. काँटा = कीला, पेड़-पौधों की नोक, मछली की हड्डी, तौलने का एक साधन।
27. कायदा = तरीका, नियम, रिवाज।
28. कोट = गढ़, समूह, पहने का एक कपड़ा।
29. कोटि = करोड़, श्रेणी, धनुष का सिरा।
30. कोरा = बिल्कुल नया, अप्रयुक्त, अलिखित (कागज), गुणरहित (व्यक्ति)।
31. क्रिया = कर्म, कार्यवाही।
32. काक = कौआ, एक द्वीप, एक माप, एक प्रकार का तिलक।
33. कड़ा = कठिन, कठोर, कंकण।
34. कनक = सोना, धतूरा, गेहूँ, टेसू।
35. कलम = लेखनी, कूँची, कनपटी के बाल, पेड़ की हरी लकड़ी।
36. कटक = सेना, शिशिर, समूह, कड़ा, श्रृंखला।
37. कन्या = पुत्री, कुमारी, लड़की, एक राशि।
38. कमान = धनुष, आदेश, प्राधिकारी।
39. करीब = समीप, लगभग, सगा साथी।
40. कर्ता = करने वाला, बनाने वाला, पहला कारक, परिवार का मुखिया।
41. कला = आर्ट, अंश, कौशल, शरीर की धातु।
42. कलि = कलह, दुःख, पाप, चारयुगों में चौथा युग।
43. कर्तन = काटना, कतरना, कातना।
44. कलुष = कलंक, पाप, गंदगी, पवित्रता।
45. कुंभ = घड़ा, प्रयागराज का एक पर्व, एक राशि।
46. केतु = ध्वज, एक ग्रह, पुच्छल तारा।
47. कछत = चोटी, नोक, जाली, झूठा, छल, ढेर, रहस्यमय।
48. केवल = एक मात्र, निरा, विशुद्ध ज्ञान।
49. कुशल = चतुर, हुनर वाला, प्रशिक्षित।
50. कैंची = कतरनी, औजार, छत का एक ढाँचा।

'ख' से शुरू होने वाले शब्द -

1. खग = पक्षी, गंधर्व, वाण, ग्रह, बादल, सूर्य, तारा, बाण, चंद्रमा, देवता।
2. खाना = घर, विभाग, सारिणी या चक्र का विभाग, भोजन, खंड।
3. खर = तीक्ष्ण, खट्टा, गधा, कौआ, खच्चर, तेजधार, तेज, कडा, घना, बगुला, तिनका, एक राक्षस, तृण।
4. खत = घाव, पत्र लिखावट, हजामत, रेखा।
5. खर्जूर = खजूर, खंदी, हरताल, बिच्छू।
6. खल = दुष्ट, बेहया, ढीठ, खोटा, खलियान, धरती, युद्ध, चुगलखोर।

'ग' से शुरू होने वाले शब्द -

1. गज = हाथी, एक राक्षस, आठ की संख्या, लम्बाई मापने की एक माप, एक प्रकार का तीर।तीन फीट की नाप, नींव।
2. गति = अवस्था, प्रयत्न की सीमा, शरण, चेष्टा, माया, ढंग, पैंतरा, चाल हालत, दशा, चक्कर, मोक्ष, लीला, अंतिम संस्कार।
3. गण = समुदाय, नर, प्रेतादि, छंद के गण, भगवान शिव के गण।
4. गुण = शील, रस्सी, कौशल स्वभाव, धर्म, सत्त्व रज, तम (मानव में पाये जाने वाले तीन गुण), हुनर, विशेषता।
5. गुरु = शिक्षक, एक ग्रह, एक दिन, श्रेष्ठ भार
6. गो = इंन्द्रियाँ, स्वर्ग, सूर्य, पृथ्वी, गाय, सरस्वती।
7. गृहस्थी = गृहस्थाश्रम, घर-बार, कुटुंब, घर का सामान।
8. गुणधर्म = प्रकृति के तीन भाव सत्व, रज तथा तम निपुणता, कोई कला या विद्या, अच्छा स्वभाव, असर, खासियत, धनुष की डोरी, रस्सी या तागा, तीन की संख्या।
9. गुरु = भारी, कठिनता से पकने या पचने वाला (खाद्य), आचार्य, किसी मंत्र का उपदेष्टा, उस्ताद, पूज्य पुरूष, पुष्प नक्षत्र, शिव, ब्रह्मा, विष्णु, श्रेष्ठ, बड़ा, शिक्षक, दो मात्रा वाला स्वर, बृहस्पति, भारी।
10. गौ = गाय, किरण, वृष राशि, इंद्रिय, वाणी, सरस्वती और बिजली, पृथ्वी, दिशा, माता, बकरी, भैंस, जीभ, बैल, घोड़ा, सूर्य, चंद्रमा, बाण, आकाश, स्वर्ग, जल, बज्र, शब्द।
11. गौरी = गोरे रंग की स्त्री, आठ वर्ष की कन्या, हल्दी, तुलसी, सफेद रंग की गाय, पृथ्वी, गंगा नदी।
12. गोप = गौ की रक्षा करने वाला, गौशाला का अध्यक्ष, ग्वाला, भूपति, गाँव का मुखिया, गले में पहनने का एक आभूषण।
13. ग्रह = सौर मंडल के नौ ग्रह, नौ की संख्या, चंद्रमा या सूर्य का ग्रहण, कृपा, राहु, स्कंद, शकु आदि छोटे बच्चों का रोग।
14. ग्राम = आबादी समूह, छोटी वस्ती, शिवा, क्रम से सात स्वरों का समूह।
15. गो = धेनु, आँख, बाण, बाल, स्वर्ग, भूमि, बैल, बिजली, जीभ, जल, माता, सरस्वती।
16. गुल = सुन्दर स्त्री, तम्बाकू का जला हिस्सा, फूल।
17. गण = समूह, सेना, छन्दशास्त्र के आठ गण, पिंगल का गण, रुद्र के सेवक।
18. ग्रह = चक्कर, कृपा, सौरमण्डल के नौ ग्रह।
19. गंदा = बुरा, अशुद्ध, अश्लील, मैला-कुचैला।
20. गंभीर = जटिल, गहरा, घना, भारी, शांत, चिंताजनक।
21. गर्दन = ग्रास लेने का स्थान, आवाज।
22. गाँठ = फंदा, गठरी, मनमुटाव, गिरह।
23. गोला = बम, गोल पिंड, पेट का वायु पिण्ड।
24. गुलाबी = गुलाबी रंग, झींगा मछली की क्रांति से सम्बन्धित, इन्द्रधनुष।

'घ' से शुरू होने वाले शब्द -

1. घर = आवास, जन्मस्थान, घराना, कार्यालय, कोठरी, पटरी आदि से घिरा हुआ स्थान, छेद, मूलकारण, गृहस्थी।
2. घन = शरीर, बादल, तीन का घात, घंटी, शरीर।
3. घट = घड़ा, कलश, देह, कुंभ राशि, किनारा।
4. घड़ी = क्षण, समय बताने की मशीन।
5. घना = अंधेरा, गम्भीर स्थिति, बादल, मोटा, कपूर।
6. घोड़ा = अश्व, बंदूक का खटका, शतरंज का मोहरा।

'च' से शुरू होने वाले शब्द -

1. चर = चलने वाला, जासूस, कौड़ी, नदी के किनारे की गीली भूमि, खंजन पक्षी।
2. चंदा = चंद्रमा, उगाही, किसी संस्था की सदस्यता के लिए समय-समय पर दिया जाने वाला धन।
3. चरण = पैर, बड़ों का सान्निध्य, किसी चीज का चौथाई भाग, मूल गोत्र, क्रम, आचार, सूर्य आदि की किरण, अनुष्ठान, गमन।
4. चित्र = तिलक, तस्वीर, एक वर्णवृत्त, अलंकार, आकाश, चित्रगुप्त, विचित्र, चितकबरा, रंगबिरंगा।
5. चक्र = पहिया, भवचक्र, चक्का, चक्रवात, मंडल, वर्ष समूह, षडयंत्र, योग चक्र।
6. चन्द्र = चन्द्रमा, जल, सोना, नक्षत्र, कपूर, तिलक।
7. चश्मा = ऐनक, स्रोत, झरना।
8. चाय = पेय पदार्थ, फसल, नशा।
9. चाल = गति, रफ्तार, रियाज, चलने का ढंग।
10. चौकी = कुर्सी, पटरा, लकड़ी का आसन।
11. चपला = बिजली, लक्ष्मी, माँग, चंचल स्त्री।

'छ' से शुरू होने वाले शब्द -

1. छन्द = वेद, रंग, अभिप्राय, पदादि।
2. छाप = अँगूठी, प्रभाव, स्थायित्व, छापने का चिह्न।
3. छाया = प्रतिरूप, छाँह, नकल, अंधकार, दीप्ति।
4. छतरी = छाता, पैराशूट, कुकुरमुत्ता।
5. छेड़ना = तंग करना, आरम्भ करना, चिढ़ाना, पीछा करना, फप्ती।

'ज' से शुरू होने वाले शब्द -

1. जलज = कमल, मोती, शंख, चंद्रमा, सेवार।
2. जाल = षडयंत्र, बुनावट, मछली पकड़ने का जाल।
3. जीवन = जल, जीविका, वायु, जिंदगी, परमप्रिय।
4. जड़ = चेतन, मूर्ख, अकड़ा हुआ, शीतल, गूँगा, बहरा, नींव, आधार, सबब।
5. जगह = स्थान, मौका, ओहदा, गुंजाइश।
6. जनक = उत्पादक, पिता, मिथिला के प्राचीन राजवंश की उपाधि, सीता के पिता।
7. जवान = जीभ, बात, प्रतिज्ञा, भाषा।
8. जमीन = भूमि, पृथ्वी, मिट्टी, भूमिका, चित्र लिखने के लिए मसाले से तैयार की हुई सतह।
9. जान = ज्ञान, ख्याल, चतुर, प्राण, बल, सार, शोभा बढाने वाली वस्तु।
10. जी = मन, प्राण, हिम्मत, संकल्प, सम्मानसूचक शब्द।
11. ज्योति = प्रकाश, अग्नि, लपट, सूर्य, नक्षत्र, दृष्टि, विष्णु, परमात्मा, आँख की पुतली के मध्य का बिन्दु।
12. जल = पानी, सागर, नदी, बादल, जलधर।
13. जड़ = मूर्ख, अचेतन, पत्थर, अनभिज्ञ।
14. जड़ना = जमाना, लगाना, प्रहार करना।
15. जीवन = प्राण, जल, जीवत दशा (जीव), गंगा, ताजा दूध, वायु, मक्खन, गंगा।
16. जौहर = एक प्रथा, राजपूत महिलाओं के द्वारा मान-सम्मान के रक्षार्थ प्राणोत्सर्ग करना, सारांश।
17. ज्योति = अग्नि, लौ, प्रकाश, परमात्मा, दृष्टि।
18. जाँच = खोजबीन, पूछताछ, परीक्षण।
19. जलना = तपना, ईर्ष्या करना, आग लगना।
20. जाली = झंझरी, छोटा जाल, नकली, मकानों के झरौखे में प्रयुक्त।

'झ' से शुरू होने वाले शब्द -

1. झंझरी = छाननी, जाली, झरोखा, आभूषण।
2. झोंका = वर्षा / वायु का थपेड़ा, झटका, वायु लहरी चक्रवात।

'ट' से शुरू होने वाले शब्द -

1. टेक = हठ, सहारा, गीत का प्रथम पद, टेव।
2. टीका = तिलक, राजतिलक, युवराज, धब्बा, व्याख्या, आधिपत्य का चिह्न, दोनों भौहों के बीच का मध्य भाग।
3. टाँका = सोने के साथ प्रयुक्त फ्यूल, पानी भरने का स्थान।
4. टाँकना = ठोकना (दीवार), बटन आदि जोड़ना, पराजित करना।
5. टीका = तिलक, व्याख्या करना, सिरफूल, दाग, आभूषण।

'ठ' से शुरू होने वाले शब्द -

1. ठाकुर = देवता, पूज्य व्यक्ति, किसी प्रदेश का अधिपति, जमींदार, क्षत्रियों की उपाधि, स्वामी, बंगाली ब्राह्मणों की उपाधि।
2. ठोस = कठोर, मजबूत, दृढ़।
3. ठंडा = शीतल, बुझा हुआ, उदासीन, विरोध न करने वाला, प्रसन्न, मरा हुआ, निश्चेष्ट।
4. ठेस = चोट, मर्ज, बीमारी।
5. ठहरना = रुकना, शांत हो जाना, गन्तव्य।
6. ठाकुर = ईश्वर, देवता, मालिक, क्षत्रिय।

'ड' से शुरू होने वाले शब्द -

1. डोरा = लकीर, तलवार की धार, तपे घी की धार, मोटा सूत या धागा, एक प्रकार की करछी, स्नेह सूत्र, नृत्य में कंठ की गति।
2. डमरू = तमाशा, ढोलक, वाद्ययन्त्र।
3. डूबना = नष्ट होना, समाप्त होना, गंगा में डुबकी लगाना।

'ढ' से शुरू होने वाले शब्द -

1. ढक्कन = बर्तन को ढकने हेतु प्रयुक्त वस्तु, मूर्ख, गोल, तश्तरी।
2. ढीला = नाप से बड़ा, आलसी (आदमी)।
3. ढर्रा = व्यवहार, पद्धति, उपाय, अन्दाज।

'त' से शुरू होने वाले शब्द -

1. तट = किनारा, क्षेत्र, प्रदेश, समीप, शिव।
2. तप = तपस्या, साधना, नियम, ताप, अग्नि, ग्रीष्म ऋतु, बुखार।
3. तारा = नक्षत्र, बालि की पत्नी, वृहस्पति की पत्नी (नाम), आँख की पुतली, सितारा, भाग्य, दस महाविद्यालयों में से एक।
4. तीर = नदी का किनारा, पास, शण।
5. तूफान = आपत्ति, आँधी, दंगा, फसाद, झूठा दोषारोपण।
6. तट = किनारा, अन्तिम छोर, सीमा, खेत, शिव।
7. तम = अंधेरा, नरक, क्रोध, अंधकार, पाप, राहू, अज्ञान, मोह, तमोगुण।
8. तंग = सँकरा, दिक्कत, प्रयोग में छोटा।
9. तेज = तीक्ष्ण, प्रचण्ड, पैना, चरपरा, शीघ्रगामी।
10. तल = तला, नीचे का सिरा, हथेली, स्वभाव।
11. तरंग = लहर, स्वर, उमंग, ऊर्मि।
12. तक्षक = सर्प, बढ़ई, सूत्रधार।
13. तरणि = नौका, सूर्य, किरण, आक का पेड़।
14. ताल = तालाब, संगीत में ताल, ताड़ वृक्ष।
15. तात = पिता, आदरणीय व्यक्तित्व बड़ाभाई, प्यारा, तप्त।

'थ' से शुरू होने वाले शब्द -

1. थान = पयोधर, स्तन, कुच।
2. थान = देवता, ब्रह्मा आदि का स्थान, गद्दी, पशुओं को बाँधने की जगह।
3. थामना = रोकना, सहारा देना, पकड़ना।

'द' से शुरू होने वाले शब्द -

1. दल = झुंड, समूह, पक्ष, पत्ता, समिति पार्टी, समूह, टुकड़ा, सेना की टुकड़ी।
2. द्विज = ब्राह्मण पक्षी, दाँत।
3. दिमाग = विचार, कामना, भावना, चेतना, स्मरण आदि शक्ति का अवयव, मस्तिष्क, मानसिक शान्ति, अभिमान।
4. दिल = कलेजा, भावों का अवयव, प्रवृत्ति, साहस।
5. देव = देवता पूज्य व्यक्ति, राजाओं अथवा ब्राह्मणों आदि के लिए एक आदरसूचक शब्द।
6. द्रव = द्रवण, वहाव, पलायन, वेग, आसव, रस, द्रवत्व, गीला, पिघला हुआ।
7. द्रव्य = धन, पदार्थ, औषध, मद्य, लेप, गोंद, वस्तु, सामग्री, धन, मूल पदार्थ जिसमें केवल गुण और किया अथवा केवल गुण हो और जो समवायी कारण हो।
8. दण्ड = एक मापनी, एक प्रकार का जुर्माना, संन्यासियों के धारण हेतु बाँस पलाशादि का डंडा।
9. द्वंद्व = कलह, एक समास का प्रकार, रहस्य।
10. देन = देने का काम, दहेज, भार अंशदान।
11. दाम = धन, मूल्य, रस्सी।
12. दोष = कमी, अपराध, विकार।
13. दक्षिण = दिशा का एक प्रकार, वाम, उदार, चतुर।
14. द्विज = ब्राह्मण, क्षत्रिय, चन्द्रमा, द्विपक्षी।

'ध' से शुरू होने वाले शब्द -

1. धर्म = यज्ञ, कर्म, शुभ, कर्त्तव्य, सम्प्रदाय, व्यवस्था, रीति, न्याय, प्रकृति, स्वभाव, कर्तव्य, सम्प्रदाय, प्रकृति, सदाचरण।
2. धन = सम्पत्ति, शब्द, प्रिय व्यक्ति, गणित में योग का चिन्ह, जोड़, संपदा, योग, संपत्ति, स्नेहपात्र, पूँजी, गणित में जोड़ी जाने वाली संख्या (जोड़ का चिह्न)।
3. धड़ = शरीर का स्थूल मध्य भाग, तना, किसी वस्तु के गिरने का शब्द।
4. धूप = सुगंधित धूप, कई द्रव्यों के योग से बनाई गई कृत्रिम धूप, सूर्य का प्रकाश तथा ताप।
5. धार = प्रवाह, धारा, पैना किनारा (चाकू का)।
6. धात्री = उपमाता, धाय, पृथ्वी, आँवला, माँ।
7. धातु = स्वर्ग, प्रकृति, पुरुषार्थ, अष्टधातु, व्याकरण के धातु, वीर्य।
8. ध्रुव = नित्य, शाश्वत, विष्णु, स्थिर, निश्चित ध्रुवतारा।
9. धवल = सफेद, उजला, साफ, स्वच्छ, निष्कलंक।
10. धर्मराज = यमराज, युधिष्ठिर, राजा, न्यायी, सत्यवादी, न्यायाधीश।

'न' से शुरू होने वाले शब्द -

1. नाक = नासिका, आकाश, स्वर्ग, प्रतिष्ठा, मान, अंतरिक्ष, अस्त्र का आघात।
3. निशाचर = असुर, प्रेत, उल्लू, चोर।
4. नर्तक = नट, नकट, चारण, एक जाति, महादेव।
5. नंदन = एक प्रकार का विष, महादेव, विष्णु, एक प्रकार का अस्त्र, आनन्ददायक, नरम, मुलायम, लचीला, गंदा, धीमा, सुस्त।
6. नाना = बहुत प्रकार के, अनेक, मातामह, पुदीना।
7. नाग = सर्प, पुन्नराग, नागा, बादल, आठ की संख्या, क्रूर, हाथी।
8. नेता = नायक, स्वामी, निर्वाहक।
9. निशान = चिह्न, दाग या धब्बा, पता, ध्वजा, मिलने का लक्षण।
10. नग = पर्वत, संख्या, चाव, अचल, वृक्ष, पत्थर, सर्प, सात की संख्या, रत्न विशेष।
11. नक्शा = आकृति, मानचित्र, रूपरेखा, नखरा।
12. नकली = बनावटी, काल्पनिक, झूठा, असत्य।
13. नंद = आनंद, खुशी, गोकुल के प्रमुख गोप, मगध राज्य का एक वंश, कुबेर की निधि एक प्रकार की मृदंग।
14. नेपथ्य = पर्दा, सजावट, रंगमंच का अन्तिम भाग।
15. निष्कर्ष = परिणाम, सारांश, सारतत्व।
16. नील = नीलम, एक पशु, नीला रंग।
17. निर्वाण = मोक्ष, मृत्यु, विश्राम, शून्य।
18. नीलकण्ठ = शिव, मोर, एक विशेष पक्षी, जहर।
19. नाक = नासिका, प्रतिष्ठा, नाशपति।
20. चौकी = थाना, प्रवेश द्वार।
21. नायक = मुखिया, सेनापति, नेता, नाटक का मुख्यपात्र।

'प' से शुरू होने वाले शब्द -

1. पग = किसी वृक्ष का पत्ता, दस्तावेज, धातु की चादर, तीर या पक्षी के पंख, समाचार पत्र, पृष्ठ, किसी विशेष कार्य के प्रमाणस्वरूप कुछ लिखा गया कागज।
2. पद = पैर, शब्द ओहदा, भजन, तरणी।
3. पक्ष = पखवारा पंख, तरफ, बल, सहाय, दल।
4. पतंग = पक्षी, सूर्य, नाव गुड़ी, पतिंगा, टिड्डी गेंद।
5. पत्र = पंख, चिट्टी, पत्ता।
6. पय = दूध, पानी।
7. प्रभाव = दबाव, सामर्थ्य, असर, महिमा, रुतबा।
8. पृष्ठ = पीछे का भाग, पन्ना, पीठ।
9. पानी = जल, प्रतिष्ठा, सम्मान, चमक, हिम्मत।
10. पात्र = बरतन, नाटक के पात्र, लायक, अधिकारी।
11. प्रयत्न = गति, अनुष्ठान, नित्कर्म, श्राद्ध आदि प्रेत कर्म।
12. पंक्ति = श्रेणी, रेखा, कुलीन ब्राह्मणों की श्रेणी, चालीस अक्षरों का वैदिक छंद, एक वर्णवृत्त।
13. पति = दूल्हा, मालिक, मर्यादा, शिव या ईश्वर।
14. प्रत्यक्ष = सामने, स्पष्ट, सीधा।
15. पृष्ठ = पन्ना, पीठ, पीछे का हिस्सा।
16. पान = पेय पदार्थ, पत्ता, ताम्बुल, पानी, कटोरा, पात्र।
17. प्राण = प्राणवायु, ईश्वर, ब्रह्मा।
18. पाठ = शिक्षा, सीख, वाचन, सबक।
19. पालन = भरण-पोषण, वचन पूर्ण करना, कर्तव्य निभाना।
20. पालि = सीमा, पक्ष, गाँव, एक प्राचीन भाषा का प्रकार।
21. पर = अन्य, पराया, पंख, अतिरिक्त।
22. पक्ष = दल, पखवाड़ा, सहाय, पार्टी, पंक, तरफ, बगल।
23. पत्र = पत्ता, पंख, अखबार, समाचार पत्र, चिट्ठी, पुस्तक का पृष्ठ, वर्क।
24. पट = मुख्य, स्थान, वस्त्र, कपड़ा, किवाड़।
25. पद्म = कमल, संख्या, विशेष, सर्प, श्रीराम।
26. पतंग = नाव, सूर्य, पक्षी, पतिंगा, टिड्डी।
27. प्रसव = जन्म, फल, फूल।
28. प्रकृति = धर्म, स्वभाव, माया, खजाना, राज्य, जन्म, स्वामी।
29. पुष्कर = कमल, तालाब, जलाशय, पुष्कर नाम का एक तीर्थ।
30. पूत = पुत्र, बेटा, शंख, पवित्र किया हुआ।
31. पटना = सौजन्य, ऋण, भरा जाना, छाजन बनाना।
32. पयोधर = स्तन, तालाब, पर्वत, बादल।
33. पटरी = पैदल मार्ग, रेलगाड़ी की लाइन, लिखने की तख्ती।
34. पिशुन = चुगलखोर, केसर, कपास, कौआ, नारद, नीच, क्रूर, मूर्ख।
35. पल्ला आँचल, तराजू का पलड़ा, दिशा, किवाड़।
36. पिंगल = पीला, छन्दशास्त्र, एक पक्षी, एकभाषा।
37. पुराना = प्राचीन, जीर्ण-शीर्ण, बुढ्ढ़ा।

'फ' से शुरू होने वाले शब्द -

1. फल = चर्म, ढाल, मेवा, लाभ, खाद्य फलों का नाम विशेष, खाने वाला फल, बीज कोश, नतीजा, कर्म योग, प्रतिफल, आघात किया जाने वाला बाण, फलक, परिणाम, पेड़ का फल, हलकी नोंक।
2. फकीर = भिक्षुक, साधु, निर्धन मनुष्य।
3. फण = साँप का फन, रस्सी का फंदा, नाव का ऊपरी भाग।
4. फसल = ऋतु, समय, खेत की उपज।
5. फूल = पुष्प, फूल के आकार का कोई गहना, उत्साह, आनन्द, फूलने की क्रिया या भाव, स्त्रियों का मासिक रज, सफेद दाग।

'ब' से शुरू होने वाले शब्द -

1. बल = ताकत, सहारा, शक्ति, सेना, बलदेव, आश्रय।
2. बाण = तीर, गाय का धन, पाँच की संख्या, आग, शर का अगला भाग।
3. ब्याज = सूद, छल, बहाना।
4. बच्ची = बाल छोठी लड़की, पाजेब आदि का घुघुरू, होंठ के नीचे बीच में जमा हुआ।
5. बाबा = पिता, पितामह, बूढा पुरूष, लड़कों के लिए प्यार का शब्द।
6. ब्रह्मा = परम सत्ता, आत्मा, ब्राह्मण, वेद, अवतार।
7. बिच्छू = एक प्रकार की जहरीली घास, प्रसिद्ध छोटा जहरीला जानवर।
8. बुखार = ज्वर, वाष्प, शोक, क्रोध, दुख आदि का आवेग।
9. ब्राह्मण = मंत्र, विष्णु, शिव, श्रेष्ठ वर्ण या जाति।
10. बृहस्पति = प्रसिद्ध वैदिक देवता अंगिरस के पुत्र तथा देवताओं के गुरु, सौर जगत का पाँचवाँ ग्रह।
11. बंधन = जंजीर, बेड़ी, कैद, गाँठ, बाँधने का साधन।
12. बलि = बलिदान, कर, उपकर, चढ़ावा, राजा बलि का नाम।
13. बहार = विकास, शोभा, वसंत ऋतु का आगमन, चढ़ती जवानी, आनन्द, लुत्फ, मजा।
14. बढ़ना = आगे बढ़ना / जाना, उन्नत होना, प्रगति, अधिक होना।
15. बेला = अवसर, समय लहर, एक वाद्य यंत्र, समुद्र का तट, एक पुष्प।
16. बीर = वीर, बहादुर, भाई, सखी, चरागाह।
17. बट्टा = तौल का बाट, पत्थर का टुकड़ा।
18. बैठक = बैठने का आसन, कमरा, जगह, अधिवेशन।
19. बिन्दु = बूँद, कण, शून्य, चिन्ह, अनुस्वार।
20. बिजली = विद्युत, तड़ित्।
21. बाल = बच्चा, केश, जटा, गेंद।
22. बाला = किशोरी बालिका, हल्दी, नारियल, खैर का पेड़, कान में पहनने वाला एक आभूषण।
23. बाबा = दादा, बड़ा, साधु, बच्चा, बुड्ढा आदमी।

'भ' से शुरू होने वाले शब्द -

1. भगवान = पूज्य, अन्तर्यामी, ईश्वर, महापुरुष, ज्ञान व वैराग्य से पूर्ण, पूज्य, ईश्वर, विष्णु, ऐश्वर्य युक्त, सामर्थ्यवान।
2. भक्त = भागों में बँटा हुआ, बाँटकर दिया हुआ, अलग किया हुआ, अनुयायी, सेवा करने वाला।
3. भेद = अंतर, रहस्य, समाचार, प्रकार भेद की क्रिया, फूट, अलग करना, अन्तर, छेदन।
4. भूमि = पृथ्वी, जड़, देश, क्रम-क्रम से योनी प्राप्त होने वाली अवस्थाएँ या क्षेत्र।
5. भूत = द्रव्य, सृष्टि का कोई जड़ या चेतन, चर या अचर पदार्थ या प्राणी, जीव बीता हुआ समय, मृत, प्राणी की आत्मा, प्रेत, मिला हुआ सामान, जो हो चुका हो, अतीत, घटित, सत्य, मुक्त, शिव, कार्तिकेय, कल, समीर, अग्नि।
6. भव = संसार, जन्म, शिव, कुशल, पैदा होना, कामदेव, सत्ता।
7. भग = ऐश्वर्य, शिव, वीर्य, यश, श्री, ज्ञान और वैराग्य, मोक्ष, क्रान्ति, योनि।
8. भोग = विलास, सुख, कब्जा, अनुभव करना, कर्मों का फल, देवताओं के निमित्त प्रसाद।

'म' से शुरू होने वाले शब्द -

1. मधु = शहद, शराब, बसंत ऋतु, मकरंद।
2. मंगल = एक दिन, एक ग्रह, शुभ, कल्याण।
3. महावीर = हनुमान, अति, बलवान, जैन तीर्थंकर।
4. मान = प्रतिष्ठा, अभिमान, रूठना, नाप-तौल।
5. मित्र = साथी, सूर्य, सहयोगी, प्रिय।
6. मूक = गूंगा, चुप, विवश।
7. महावीर = बहुत बलशाली, हनुमानजी, गौतम बुद्ध, जैनियों के अंतिम तीर्थकर (24 वें जैन तीर्थंकर), बहुत बड़ा वीर।
8. मधु = शहद, मदिरा, फूल का रस, वसंत ऋतु, चैत्रमास, एक दैत्य, दो लघु अक्षरों का एक छंद, शिव, मुलेठी, अमृत, मीठा, स्वादिष्ट, शहद, सोमरस, जल, दूध, अशोक, चेरी, शराब, पुष्परस।
9. माता = जननी, गौ, भूमि, लक्ष्मी, शीतला, मतवाला।
10. माँ = जननी, माता, अव्यय, मान, माप, धात्री, लक्ष्मी, दुर्गा, काली माता, दीप्ति।
11. मुँह = मुख-विवर, सूराख, साहस, योग्यता।
12. मामा = माँ का भाई, नौकरानी।
13. मुद्रा = मोहर, अँगूठी, छापा, चिह्न, आकृति, विन्यास, गोरखपंथी, जो कान में कुण्डल पहनते हैं, सिक्का, नाम की मुहर, नाम खुदी अंगूठी, रूप, मुख, हाथ, गर्दन आदि की मुद्राएँ।
14. मद = उन्माद, हर्ष, घमण्ड, मन में होने वाला विकार, शराब, हाथी से टपकता जल, नीम से टपकता जल। कर्मेन्द्रियों से निःसृत पदार्थ।
15. मूल = जड़, स्थायी, कंद, पूँजी, एक नक्षत्र।
16. मण्डल = वृत्त, गोलाकार, घेरा, कुंडली, जिला, हल्का, लड्डू समूह, ऋग्वेद का एक खंड।
17. मित्र = सखा, दोस्त, सहयोगी, सूर्य, प्रिय सहृदय।
18. महीधर = पर्वत, शेषनाग।
19. मंत्र = वेदों का श्लोक, जादुई विचार, राय, सलाह, प्राप्ति के लिये किया जाए।
20. मेघ = बादल, राक्षस, पयोधर।
21. मणि = बेश कीमती पत्थर, रत्न, जवाहरात, योनि-लिङ्ग का अग्रभाग, कलाई, अगुआ।
22. मेखला = गोलघेरा, करधनी, कमरबन्ध, पर्वत का मध्य भाग।
23. मान = सम्मान, घमण्ड, माप, तौल।
24. मोहर = छाप, ठप्पा, अशर्फी, लाख।
25. माया = मोह, लीला, भ्रम, दौलत, वशीकरण मंत्र, जादू।
26. मौज = आनन्द, लहर, सुख, धुन, विभूति।
27. माधव = वसन्त ऋतु, वैशाख, शराब, चैत्रमास, शहद, मकरंद, घी, श्रीकृष्ण।
28. मात्रा = संख्या, इन्द्रिय, परिमाण, कान का आभूषण।

'य' से शुरू होने वाले शब्द -

1. योग = युक्ति, जोड़, उपाय, ध्यान।
देवताओं के निमित्त आहुति, पूजा, एक देवयोनि कुबेर।
2. युग = युगल, समय काल, पीढ़ी।
3. यति = योगी, संन्यासी, ब्रह्मचारी, जितेन्द्रिय, विरक्ति, ब्रह्मा का एक पुत्र, व्यवधान, विराम लेना, वैराग्य।
4. युक्त = उचित, नियुक्त, मिश्रित।
5. युक्ति = अन्दाज, तरकीब, जुगाड़, दलील, मत।
6. योग = युक्ति, योगफल, सूत्र, कवच लाभ, कौशल, व्यवसाय, संगति, शुभकाल, जोड़ (गणित से)।

'र' से शुरू होने वाले शब्द -

1. रस = जल, स्वाद, वेग, कविता, आनन्द, वनस्पति का सार, तत्व, नौ रस की संख्यास्वाद, प्रेंम, पानी, काव्य के रस, रसानुभूति, निचोड़, भोज्य के छह तथा काव्य में नौ रस।
2. रंग = वर्ण, शोभा, लाल रंग, ढंग, रंगमंच, प्रभाव, रंगने की वस्तु नाच गाना।
3. राग = क्रोध, प्रेंम, गाने की ध्वनि, लाल रंग, द्वेष।
4. रथ = एक प्रकार की पुरानी सवारी, चरण, शरीर, शतरंज में ऊँट।
5. रक्त = खून, रुधिर, पुराना, कुमकुम, सिंदूर आसक्त, अनुरक्त, आँवला, लहू, कुमकुम, ताँबा, लाल चंदन, रंगा हुआ, लाल।
6. रवि = सूर्य, मदार का पेड़, नायक, अग्नि।
7. रेखा = लकीर, गणना, आकृति, हथेली, तलवे आदि में पड़ी लकीरें।
8. राम = परशुराम, बलराम, दशरथ के पुत्र, तीन की संख्या, ईश्वर।
9. राग = प्रेंम, आसक्ति, गाने की धुन, आलस, एक सुगंधित लेपन।
10. राशि = भीड़, ढेर, राशियाँ (बारह) समूह, दल।
11. लय = विलीन, समाधिस्थ होना, विनाश, प्रेंम, खो जाना।
12. लहर = उर्मि, उमंग, वायु, झोंका, जोश, आनंद, कुटिल, रेखा।
13. लगन = धुन, चाह, लौ, प्रेम, मुहूर्त, संलग्न होना।
14. लक्ष्य = ध्येय, उद्देश्य, निशाना।
15. लिङ्ग = प्रमाण, चिह्न, शिशन, शिवलिंग, कारण।
16. लाल = लाल रंग, बेटा, प्रिय व्यक्ति, हीरे-जवाहरात चमक का सूचक, एक प्रिय पक्षी।
17. रसाल = वन, आम्र, ईख, मीठा, रसीली।

'ल' से शुरू होने वाले शब्द -

1. लक्ष्य = निशाना, उद्देश्य।
2. लाल = पुत्र, प्यार, सम्बोधन, एकरंग, माणिक्य।
3. लेख = लिपि, लिखावट, लेख, देव, पक्की बात, किसी विषय पर लिखी हुई बात।

'व' से शुरू होने वाले शब्द -

1. वर = पति, दूल्हा, उत्तम, श्रेष्ठ, वरदान।
2. वर्ण = जाति, रंग, अक्षर।
3. विग्रह = शरीर, देवमूर्ति, लड़ाई, अलगाव।
4. विषम = भीषण, अति, कठिन, असम, प्रतिकूल।
5. वंश = खानदान, पीठ की हड्डी, बाँस, बाँसुरी, नाक के ऊपर की हड्डी।
6. वर्ण = रंग, जाति, अक्षर, गुण, स्वर्ण रूप ब्राह्मण आदि चार वर्ण, कीर्ति, जनसमुदाय के चार विभाग।
7. विहंगम = वाण, सूर्य, पक्षी, चन्द्र, बादल।
8. वेद = ज्ञान, हिन्दुओं का आदि ग्रंथ, कारिका, व्याख्या, चार की संख्या, अनुभूति।
9. वर्ग = समूह, कोटि, चौकोर, जाति, गणित की एक क्रिया, अध्याय।
10. वज्र = इन्द्र का अस्त्र, हीरा, भाला, विद्युत।
11. वृत्त = घेरा, वर्णिक छंद, वृत्तांत।
12. विग्रह = कलह, शरीर, खण्डन, विच्छेद, बीघा, विश्लेषण, लड़ाई।
13. वर = वरदान, दूल्हा, लाडा, श्रेष्ठ, आशीर्वाद, कुमकुम।
14. वन = उपवन, घर, झरना, बाग, रश्मि, फूलों का गुच्छा।
15. वर्तमान = विद्यमान, समय, प्रचलित।
16. वृत्ति = स्वभाव, प्रकृति, रुझान, पेशा, रोजी, आजीविका कमाना।
17. विचार = ध्यान, राय, मान्यता, सोच।
18. विधि = ईश्वर का विधान, भाग्य, ढंग, भाँति, तरीका, युक्ति।
19. वीथि = गली, पंक्ति, श्रेणी, दुकान, सूर्य का पथ, दृश्य काव्य का भेद (एकांकी वीथि)।
20. व्यवहार = बर्ताव, कार्य, दीवानी, मामला।
21. वर्ष = साल, बारह माह का समूह, संवत।
22. विषम = असमान, भीषण, बहुत कठिन, ताक (संख्या)।
23. व्योम = आकाश, अवकाश, प्रजापति, विष्णु, वायु।
24. वेला = समय, समुद्र की लहर, अवकाश।
25. वार = दिन, बारी, आक्रमण, रोक।
26. वाणी = स्वर, वचन, शीघ्र, रसना, प्रशंसा, बुनाई, आवाज, वाग्देवी शब्द, सार्थक, सरस्वती, वाग्देवी।

'श' से शुरू होने वाले शब्द -

1. शिव = शुभ, शंकर, कल्याण, भाग्यशाली।
2. शुद्ध = पावन, सही, जिसमें मिश्रण न हो।
3. शिव = महादेव, परमेश्वर, देव, रूद्र, लिंग, मंगल, वेद, जल-धारा।
4. शनि = सौर जगत का एक ग्रह, दुर्भाग्य।
5. शून्य = खाली स्थान, एकांत स्थान, बिंदु, अभाव, स्वर्ग, विष्णु, ईश्वर, निराकार, विहीन।
6. शुक्र = शुक्रतारा, वीर्य, बल, सप्ताह का छठा दिन, अग्नि, धन्यवाद।
7. शिखा = लौ, डाली, ज्वाला, चोट, चोटी, आग की लपट।
8. शकल = आकृति, भाग, चिह्न, छिलका।
9. शलाका = सलाखा, सुई, तीर, पास, हड्डी।
10. शेष = बचा हुआ भाग, अंत, सीमा, सर्प। 11. शुक = तोता, वस्त्र, कपड़े का आँचल।
12. शून्य = अभाव, असत्, आकाश, स्वर्ग, ईश्वर।
13. शशांक = मोर, चन्द्रमा, कपूर, एक राजा।
14. शंकु = भाला, कील, विष, बॉबी, लिंग, हँस, कामदेव, एक प्रकार का खंभा, कोण, शंख, एक मछली, संख्या, शिव।
15. शक्ति = माया, बल, ताकत, दुर्गा, अधिकार, प्रकृति।
16. शंवर = जल, धन, युद्ध व्रत, एक राक्षस, मृग, श्रेष्ठ, चैत्र, बादल।
17. श्याम = काला, सेंधा नमक, कोयल, श्रीकृष्ण, बादल, धतूरा, कोयला, धुँआ।
18. श्रुति = वेद सुनना, वाद, कान।
19. शीर्ष = अग्र भाग, सिर, चोटी, पर्वत का नाम।
20. शर = बाण, बाँस, सरकन्दा, सती होने वाली स्त्री की चिता।

'स' से शुरू होने वाले शब्द -

1. सरस = गीला, रसीला, मधुर, मनोहर, हरा, ताजा।
2. स्वर = आवाज, सुर, अक्षर, अ, आ, इ, ई आदि, एक राक्षस, दुष्ट, गदहा, तिनका, अधिक गुना हुआ।
3. सर = तालाब, सिर, बाण, चिता, महाशय, पराजित।
4. सुर = देवता, अग्नि, विद्वान्, मुनि।
5. सूर = सूर्य, पंडित, अंधा, कवि, सूरदास, शूरवीर।
6. सुधा = अमृत, पानी।
7. स्थूल = मोटा, मोटी बुद्धि वाला।
8. सारंग = एक राग का नाम मोर, सर्प, मेघ, किरण, पानी, पपीहा, हाथी, सिंह, कोयल, दीपक, शोभा कमल-भौंरा।
9. सरल = सीधा, निष्कपट, चीड़ का पेड़े, सांवला, श्याम वर्ण का, श्रीकृष्ण, पति या प्रेमी का बोधक, एक नाम, खरा, आसान, ईमानदार।
10. संज्ञा = चेतना, बुद्धि, ज्ञान, नाम, व्याकरण में वह विकारी शब्द जिससे किसी पदार्थ या कल्पित वस्तु का बोध होता है, सूर्य की पत्नी, संकेत।
11. सुग्रीव = जिसकी गर्दन सुंदर हो, इंद्र, शंख, बालि का भाई।
12. साधु = कुलीन, धार्मिक पुरूष, सज्जन, उत्तम, सच्चा, प्रशंसनीय।
13. सेना = फौज, माला, इंद्र का वज्र, इंद्राणी।
14. सोना = स्वर्ण, बहुत सुंदर वस्तु, राजहंस, एक प्रकार की मछली।
15. संधि = जोड़, युगों का मिलन, निश्चय, सेंध, नाटक के कथांश दो राजाओं के मध्य समझौता।
16. सम्बध = रिश्ता, मेल-जोल, छठा-कारक व्याकरण।
17. स्थूल = मोटा, शिथिल।
18. सुरभि = सुगन्ध, वसन्त ऋतु, खुशबू।
19. साफ = समतल, निर्मल, स्वच्छ, शुद्ध, परिष्कृत, निश्चल।
20. साधन = उपकरण, उपाय, सामान, पालन, कारण।
21. ,साधना = सिद्ध करना, आराधना, पक्का करना, रियाज करना, अभ्यास करना।
22. साहूकार = सरदार, ईमानदार, रईस, धनवान, धनिक।
23. संगम = मेल, मिलाप, जहाँ दो नदियाँ मिलती हों, रति-क्रीड़ा।
24. सर = जलाशय, तालाब, सिर, पराजित।
25. संसार = जगत्, दुनिया, भयचक्र, आवागमन, माया जाल।
26. संकर = मिश्रण, योग, एक में मिलना, गोबर, कूड़ा, अन्तरजातीय संबंध से उत्पन्न सन्तान।
27. सन्तान = पुत्र-पुत्री आदि, धारा, विस्तार, वंश, स्नायु, कल्प वृक्ष।
28. संस्था = संगठित व्यवस्था, समाज, देश, राज्य, आयोग, यूनियन, समिति।
29. सभा = समिति, समूह, किसी कार्य के लिये बनी संस्था।
30. संख्या = गिनती, प्रज्ञा, तरीका, नाम, आख्या।
31. सरदार = रईस, शासक, अगुआ, नेतृत्वकर्त्ता।
32. सही = सत्य, ठीक, प्रामाणिकता।
33. संस्करण = शुद्ध किया हुआ, पुस्तक का एक बार का प्रकाशन।
34. सिला = शिला, इनाम, बदला, शिलापट्ट।
35. सुवर्ण = सोना, चमकीला, हरिचंदन, नाग केसर, एक यज्ञ, शिव, धतूरा।
36. सर्ग = प्रवाह, सृष्टि, उद्गम, प्रवृत्ति, अध्याय।
37. संस्कार = सफाई, धार्मिक कृत्य, आचार-व्यवहार, मन पर पड़ने वाले प्रभाव।

'ह' से शुरू होने वाले शब्द -

1. हरि = ईश्वर, विष्णु, इन्द्र, पहाड़, हाथी, तोता, राम, एक वर्ण, किरण, मेंढक, इंद्र, सिंह, सर्प, घोड़ा, ताल, हवा, वानर, कामदेव।
2. हरकत = गति चेष्टा, नटखटपन, चंचलता।
3. हर = प्रत्येक, शिव, हरणकर्त्ता, भिन्न के अंश के नीचे की संख्या, महादेव, हरा रंग, चुराना।
4. हंस = प्राण, आत्मा, एक पक्षी।
5. हस्ती = अस्तित्व, हाथी, सामर्थ्य।
6. हिम = बर्फ, जाड़ा, ओस, चंदन, कपूर, मोती, कमल, ठंडा, हिमालय, पर्वत, चन्द्रमा, रात्रि।
7. हाथ = कर, दाँव, लम्बाई की एक नाप।
8. हंस = पक्षी विशेष, प्राण, ईश्वर, शिव, घोड़ा, कामदेव, मराल, मुक्त पुरुष।
9. हरिण = मृग, सूर्य, हंस, हरा, नेवला।
10. हील = दुर्बल, रहित, अभावग्रस्त।
11. हस्ती = हाथी, अस्तित्व, हैसियत, शख्सियत।
12. हरकत = चेष्टा, गति, हलचल।
13. हेम = स्वर्ण, जल, पाला, तुषार, केशर का फूल।
14. हत = मारा हुआ, ताड़ित, तंग किया हुआ।
15. हलधर = किसान, कृषक, बैल, बलराम।
16. हवा = प्राण वायु, बयार, भूत, कीर्ति, महत्त्व।
17. हलाहल = जहर, शंखिया, विषपान, धतूरा।
18. हालचाल = समाचार लेना, स्थिति जानना, मिलना।
19. होनहार = बुद्धिमान, शक्तिशाली, हुनर वाला, सामर्थ्यवान, होशियार।

'क्ष' से शुरू होने वाले शब्द -

1. क्षमा माफी, सहनशीलता, पृथ्वी, एक की संख्या, दक्ष की एक कन्या, दुर्गा, तेरह अक्षरों का वर्णवृत्, सहिष्णुता, दया, रात्रि, दुर्गा, पृथ्वी, दीर्घ।
2. क्षार = खार, नमक, सज्जी, शोरा, सुह्यगा, भस्म।
3. क्षेत्र = खेत, समतल भूमि, घर, उत्पत्ति स्थान, अंतःकरण, तीर्थस्थान, प्रभाव या क्रिया का दायरा।
4. क्षुद्र = थोड़ा, नीच, कंजूस, छोटा।
5. क्षेत्र = खेत, प्रदेश, खण्ड, टुकड़ा, अंश।
6. क्षेत्रपाल = सेवक, रक्षक, सेना, सिपाही।

'त्र' से शुरू होने वाले शब्द -

1. त्रिशूल = एक अस्त्र, जिसके तीन फल होते हैं- दैहिक, भौतिक, दैविक दुख।

'श्र' से शुरू होने वाले शब्द -

1. श्री = लक्ष्मी, सरस्वती, कमल, सफेद चंदन, त्रिवर्ण, संपत्ति, विभूति, कीर्ति, प्रभा, कांति, एक छंद या वृत्त, संपूर्ण जाति या एक नाम।

शब्द निर्माण एवं प्रकारों से संबंधित प्रकरणों को पढ़ें।
1. शब्द तथा पद क्या है? इसकी परिभाषा, विशेषताएँ एवं महत्त्व।
2. शब्द के प्रकार (शब्दों का वर्गीकरण)
3. तत्सम का शाब्दिक अर्थ एवं इसका इतिहास।
4. तद्भव शब्द - अर्थ, अवधारणा एवं उदाहरण
5. विदेशी/विदेशज (आगत) शब्द एवं उनके उदाहरण
6. अर्द्धतत्सम एवं देशज शब्द किसे कहते हैं?
7. द्विज (संकर शब्द) किसे कहते हैं? उदाहरण
8. ध्वन्यात्मक या अनुकरण वाचक शब्द किन्हें कहते हैं?
9. रचना के आधार पर शब्दों के प्रकार- रूढ़, यौगिक, योगरूढ़
10. पारिभाषिक, अर्द्धपारिभाषिक, सामान्य शब्द।
11. वाचक, लाक्षणिक एवं व्यंजक शब्द
12. एकार्थी (एकार्थक) शब्द - जैसे आदि और इत्यादि वाक्य में प्रयोग

I Hope the above information will be useful and important.
(आशा है, उपरोक्त जानकारी उपयोगी एवं महत्वपूर्ण होगी।)
Thank you.
R F Temre
rfhindi.com

Watch video for related information
(संबंधित जानकारी के लिए नीचे दिये गए विडियो को देखें।)
  • Share on :

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like




  • BY: ADMIN
  • 0

समोच्चारित (समान उच्चारण वाले) / श्रुतिसम भिन्नार्थक या समरूप भिन्नार्थक शब्द एवं शब्दसूची || Samocharit Shrutisam Bhinnarthak Shabd

समोच्चरित या श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द उन शब्दों को कहते हैं, जिनका उच्चारण सामान्यतः सुनने में एक समान प्रतीत होता है किन्तु उनके अर्थ में प्रायः भिन्नता पाई जाती है।

Read more



  • BY: ADMIN
  • 0

पूर्ण एवं अपूर्ण पर्याय शब्द एवं इनके उदाहरण || Purn ans Apurn synonyms and their examples

एक ही अर्थ को प्रकट करने के लिए प्रयुक्त होने वाले अलग अलग शब्दों को पर्यायवाची शब्द कहा जाता है। पर्यायवाची शब्दों की दो कोटियाँ हो सकती हैं।

Read more