विद्या ददाति विनयम्

Blog / Content Details

विषयवस्तु विवरण



ध्वन्यात्मक या अनुकरण वाचक शब्द किन्हें कहते हैं || Hindi Bhasha Gyan - Anukaran vachak ya dhvanyaatmak shabd

ध्वन्यात्मक (अनुकरण वाचक) शब्द - हमारे आसपास के जीव-जंतुओं एवं विभिन्न प्रकार की वस्तुओं के द्वारा निकलने वाली आवाजों (ध्वनियों) के आधार पर उन्हें जानने व समझने के लिए उन ध्वनियों आवाजों से संबंधित शब्दों का निर्माण कर लिया गया है, जिन्हें ध्वन्यात्मक शब्द कहते हैं। दूसरे शब्दों में कहें तो ऐसे शब्द जिनकी की ध्वनियों को सुनकर उन्हीं का अनुकरण करते हुए शब्दों का निर्माण हुआ है। ध्वनि के अनुकरण में बने होने के कारण इन्हें ध्वन्यात्मक और अनुकरणात्मक या अनुकरण वाचक शब्द कहते हैं।
उदाहरण के लिए पक्षियों के चीं-चीं, चें-चें करने की ध्वनि के आधार पर 'चहकना' एवं चहचहाना शब्दों का निर्माण हुआ है।

आदिममानव काल के अध्ययन करने पर हम पाते हैं कि भाषा विकास हेतु शब्दों की उत्पत्ति का उस काल की परिस्थितियों, प्राकृतिक घटनाओं एवं अन्य जीव-जन्तुओं का आपस में गहरा संबंध रहा है। आदिम-युग न सिर्फ ध्वन्यात्मक शब्दों की उत्पत्ति का कारण रहा है, बल्कि विभिन्न प्रकार की लिपियों अर्थात् वर्णों के आकार-प्रकार का श्रेय भी रहा है।विभिन्न वर्णों के आकारों और पेड़-पौधों की टहनियों, उस समय के हथियारों, पशुओं के दाँतों, सींगों, पक्षियों की चोंच, पैर (शारीरिक रचना) आदि से काफी कुछ समानता मिलती है। इसी तरह विभिन्न प्रकार की ध्वनियों में हम प्राकृतिक घटनाओं की ध्वनियों, पशु-पक्षियों की बोलियाँ आदि में काफी कुछ साम्य (समानता) पाते हैं और उन ध्वनियों से बने बहुत सारे शब्दों का आज भी हम भाषा में प्रयोग कर रहे हैं।

उदाहरण -
अंडबंड
ऊटपटांग
फड़क
खचाखच
किलकारी
खटपट
खर्राटा
खलबली
घुन्ना
चटपटा
चाट
चिड़चिड़ा
घुटकी
छिछला
झंकार
टुच्चा
ठठेरा
भभक
पापड़
भौं
मुस्टण्डा
फटकटाना
खटखटाना
घुड़कना
सनसनाना
हिनहिनाना
टपटपाना / टपटपाहट
सरसराना / सरसराहट
चटचटाना / चटचटाहट
चिलचिलाना / चिलचिलाहट
गड़गड़ाना / गड़गडाहट
घरघराना / घरघराहट
फुसफुसाना / फुसफुसाहट
चरचराना / चरचराहट
फटफटी /फटफटाना
फरफराना / फरफराहट
भदभदाना / भदभदाहट
हकलाना / हकलाहट
तिरपिड़ाना / तिरपिड़ाहट
बड़बड़ाना
धक्कमधक्का
खखारना
टिमटिमाना
गुनगुनाना
कड़कना
टिटकारना
खट-खट
पटाक
झर-झर
खरपट
सरपट
धड़ाम / धड़ाधड़
धड़ल्ले
बुदबुदाना
खड़कना
खनकना
भरकम
चकमक

उपरोक्त शब्दों का अवलोकन करने से स्पष्ट होता है कि ये शब्द हमारी प्रकृति की विभिन्न वस्तुओं, पशु-पक्षियों आदि के द्वारा की जाने वाली ध्वनि के आधार पर निर्मित हुए हैं।
नीचे पशुओं, पक्षियों, कीड़े-मकोड़ों, प्राकृतिक पदार्थों, वस्तुओं, मानव के शारीरिक अंगों के द्वारा निकलने वाली आवाज (ध्वनि) के आधार पर निर्मित शब्दों को देखें।

(1) पशुओं की आवाजों का अनुकरण से बने शब्द -
हाथी - चिंग्घाड़ना
भेंड़ - भें-भें करना
बिल्ली - म्याऊँ म्याऊँ
सूअर - किकियाना
ऊँट - बलबलाना
घोड़ा - हिनहिनाना
बन्दर - किकियाना
शेर - गरजना
बाघ - गुर्राना
भालू - खो-खों
साँड़ - डकारना
कुत्ता - भौंकना
सियार - हुआँ-हुआँ
गाय - रंभाना
भैंस - चुकरना
बकरा - बों-बों
बकरी - मिमियाना
गदहा - रेंकना
चूहा - चूँ-चूँ

(2) पक्षियों की आवाजों का अनुकरण से बने शब्द -
कौआ - काँव-काँव
तोता - टें-टें
मुर्गी - कुकड़ना
कोयल - कूकना
पपीहा - पीऊ-पीऊ
हंस - कूजना
कबूतर - गुटर गूँ गुटर-गूँ
बत्तख - कें- कें
चिड़िया - चहचहाना, चूँ-चूँ
मुर्गा - कुकड़ूकू(बाँग देना)
उल्लू - घुघुआना
मोर - कें- कें

(3) कीड़े-मकोड़ों की आवाजों का अनुकरण से बने शब्द -
साँप - फुफकारना
मक्खियाँ/मच्छर - भिनभिनाना (भिन-भिन)
भौंरा - गुनगुनाना (गुन-गुन)
झींगुर - झंकारना, चिरचिराना

(4) प्राकृतिक पदार्थों की आवाजों का अनुकरण से बने शब्द -
बिजली - कड़कना
मेघ - गरजन
हवा - सन-सन, सरसराहट
पत्ता - फड़फड़ाना, खड़-खड़
धूप - कड़कड़ाना
नदी - कल-कल
झरना - झर-झर
पानी की बूँदें - टप-टप

(5) वस्तुओं की आवाजों का अनुकरण से बने शब्द -
रुपये - खनकना
चूड़ी - खनकना, खन-खन
घड़ी - टिक-टिक
दरवाजा - खटखटाना
कपड़ा - फड़फड़ाना, फड़-फड़
दीपक - फफकना
बाइक - फटफटाना

(6) शारीरिक अंगों की आवाजों का अनुकरण से बने शब्द -
मुँह - बड़बड़ाना, फुसफुसाना, टिटकारना, पुचकारना
चेहरा - तमतमाना
दिल - धड़कना (धक् धक्)
दाँत - किटकिटाना (कट-कट)
पैर - थरथराना, थरथराहट, ठुमकना।
पेट - डकार लेना
आँखें - चौंधियाना
कान - सनसनाना, सनसनाहट
सिर - भनभनाना
नाक - सिकोड़ना, सिनकना
गला - खरखराना, खरखराहट, खखारना
भुजाएँ - फड़कना
पोंद - ठरठराना

शब्द निर्माण एवं प्रकारों से संबंधित प्रकरणों को पढ़ें।
1. शब्द तथा पद क्या है? इसकी परिभाषा, विशेषताएँ एवं महत्त्व।
2. शब्द के प्रकार (शब्दों का वर्गीकरण)
3. तत्सम का शाब्दिक अर्थ एवं इसका इतिहास।
4. तद्भव शब्द - अर्थ, अवधारणा एवं उदाहरण
5. विदेशी/विदेशज (आगत) शब्द एवं उनके उदाहरण
6. अर्द्धतत्सम एवं देशज शब्द किसे कहते हैं?
7. द्विज (संकर शब्द) किसे कहते हैं? उदाहरण

I Hope the above information will be useful and important.
(आशा है, उपरोक्त जानकारी उपयोगी एवं महत्वपूर्ण होगी।)
Thank you.
R F Temre
rfhindi.com

Watch video for related information
(संबंधित जानकारी के लिए नीचे दिये गए विडियो को देखें।)
  • Share on :

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like




  • BY: ADMIN
  • 0

समोच्चारित (समान उच्चारण वाले) / श्रुतिसम भिन्नार्थक या समरूप भिन्नार्थक शब्द एवं शब्दसूची || Samocharit Shrutisam Bhinnarthak Shabd

समोच्चरित या श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द उन शब्दों को कहते हैं, जिनका उच्चारण सामान्यतः सुनने में एक समान प्रतीत होता है किन्तु उनके अर्थ में प्रायः भिन्नता पाई जाती है।

Read more



  • BY: ADMIN
  • 0

पूर्ण एवं अपूर्ण पर्याय शब्द एवं इनके उदाहरण || Purn ans Apurn synonyms and their examples

एक ही अर्थ को प्रकट करने के लिए प्रयुक्त होने वाले अलग अलग शब्दों को पर्यायवाची शब्द कहा जाता है। पर्यायवाची शब्दों की दो कोटियाँ हो सकती हैं।

Read more