विद्या ददाति विनयम्

Blog / Content Details

विषयवस्तु विवरण



व्यन्जनों का वर्गीकरण || व्यन्जनों के प्रकार - प्रयत्न, स्थान, स्वरतंत्रीय, प्राणत्व के आधार पर

पिछले लेख में स्वरों के वर्गीकरण के बारे में जानकारी दी गई है। मुख के विभिन्न अवयवों के आधार पर उच्चारण स्थिति को देखते हुए स्वरों के प्रकार बताए गए हैं। इस लेख में व्यन्जन वर्णों का वर्गीकरण अर्थात इनके प्रकारों के बारे में जानकारी दी गई है।

व्यन्जनों का वर्गीकरण

व्यन्जनों का वर्गीकरण निम्नलिखित चार आधार पर किया जाता है -
(क) प्रयत्न के आधार
(ख) स्थान के आधार पर
(ग) स्वरतन्त्रिय आधार पर
(घ) प्राणत्व के आधार

(क) प्रयत्न के आधार पर-

प्रयत्न के आधार पर व्यन्जनों का वर्गीकरण निम्नानुसार किया जाता है-
(i) स्पर्शी (स्पर्श व्यंजन)
(ii) संघर्षी व्यन्जन
(iii) स्पर्श संघर्षी व्यन्जन
(iv) नासिक्य व्यन्जन
(v) पार्श्विक व्यन्जन
(vi) उत्क्षिप्त व्यन्जन
(vii) लुण्ठित व्यन्जन
(viii) अर्द्धस्वर व्यन्जन

हिन्दी भाषा के इतिहास से संबंधित इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।।
1. भाषा का आदि इतिहास - भाषा उत्पत्ति एवं इसका आरंभिक स्वरूप
2. भाषा शब्द की उत्पत्ति, भाषा के रूप - मौखिक, लिखित एवं सांकेतिक
3. भाषा के विभिन्न रूप - बोली, भाषा, विभाषा, उप-भाषा
4. मानक भाषा क्या है? मानक भाषा के तत्व, शैलियाँ एवं विशेषताएँ
5. देवनागरी लिपि एवं इसका नामकरण, भारतीय लिपियाँ- सिन्धु घाटी लिपि, ब्राह्मी लिपि, खरोष्ठी लिपि

(i) स्पर्श व्यन्जन - जब व्यन्जनों का उच्चारण मुख के अवयवों का परस्पर पूर्ण स्पर्श करने पर होता है, तब उन्हें स्पर्श व्यन्जन कहते हैं। इनके उच्चारण में पहले हवा मुख में रूक जाती है, फिर धक्का देकर बाहर निकलती है।
हिन्दी में 'क', 'च', 'ट', 'त', 'प' (पाँचों वर्ग) के स्पर्श व्यन्जन हैं।
'क' वर्ग - क, ख, ग, घ, ङ
'च' वर्ग - च, छ, ज, झ, ञ
'ट' वर्ग - ट, ठ, ड, ढ, ण
'त' वर्ग - त, थ, द, ध, न
'प' वर्ग - प, फ, ब, भ, म

(ii) संघर्षी व्यन्जन - नाम से स्पष्ट है जिन वर्णों के उच्चारण में जब कुछ संघर्ष करना पड़े। जब व्यन्जनों उच्चारण करते समय दो अवयव इतने निकट आ जाते हैं कि हवा दोनों के बीच से घर्षण करती हुई निकलती है।
जैसे- 'फ', 'ज', 'श', 'ख', 'ग'।

(iii) स्पर्श संघर्षी व्यन्जन - इस प्रकार के व्यन्जनों के उच्चारण में पहले स्पर्श और बाद में घर्षण होता है।
जैसे- 'च', 'छ', 'झ'।

(vi) नासिक्य व्यन्जन - जिन व्यन्जनों के उच्चारण में हवा नाक से निकलती है, वे नासिक्य कहलाते हैं। व्यन्जनों में पाँचों वर्गों के पञ्चम वर्ण नासिक्य हैं।
जैसे - 'ङ', 'ञ', 'ण', 'न', 'म'

ध्वनि एवं वर्णमाला से संबंधित इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।।
1. ध्वनि का अर्थ, परिभाषा, लक्षण, महत्व, ध्वनि शिक्षण के उद्देश्य ,भाषायी ध्वनियाँ
2. वाणी - यन्त्र (मुख के अवयव) के प्रकार- ध्वनि यन्त्र (वाक्-यन्त्र) के मुख में स्थान
3. हिन्दी भाषा में स्वर और व्यन्जन || स्वर एवं व्यन्जनों के प्रकार, इनकी संख्या एवं इनमें अन्तर
4. स्वरों के वर्गीकरण के छः आधार

(v) पार्श्विक व्यन्जन - जिस वर्ण के उच्चारण में मुख के मध्य भाग में दो अवयव मिलकर वायु अवरूद्ध कर देते हैं, किन्तु हवा दोनों पार्श्वों से होकर निकल जाती है।
जैसे- 'ल'

(vi) अत्क्षिप्त व्यन्जन - इनके उच्चारण में जिह्वा नोक कठोर तालु को छूकर झटके से नीचे आकर वायु निकालती है उन्हें अत्क्षिप्त व्यन्जन कहते हैं।
जैसे- 'ड', 'ढ'

(vii) लुण्ठित व्यन्जन - जिन व्यन्जनों के उच्चारण में हवा मसूड़े के पास आकर कुछ कम्पनता उत्पन्न करती है, उन्हें लुण्ठित व्यन्जन कहते हैं।
जैसे- 'र'

(viii) ऊर्द्ध व्यन्जन - हिन्दी में 'य', 'व', ऊर्द्ध व्यन्जन हैं।
'य' - इसके उच्चारण में ओंठ फैले या कभी तटस्थ रहते हैं।
'व' - इसके उच्चारण में ओंठ फैले रहते हैं।

(ख) स्थान के आधार पर-

उच्चारण स्थानों के आधार पर व्यन्जनों को निम्नलिखित वर्गों में बाँटा जाता है-
(i) कण्ठय व्यन्जन
(ii) तालव्य व्यन्जन
(iii) मूर्धन्य व्यन्जन
(iv) दन्त्य व्यन्जन
(v) ओष्ठ व्यन्जन
(vi) नासिक्य व्यन्जन
(vii) वर्त्स्य व्यन्जन
(viii) दन्त्योष्ठय व्यन्जन

हिन्दी व्याकरण के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।।
1. व्याकरण क्या है
2. वर्ण क्या हैं वर्णोंकी संख्या
3. वर्ण और अक्षर में अन्तर
4. स्वर के प्रकार
5. व्यंजनों के प्रकार-अयोगवाह एवं द्विगुण व्यंजन
6. व्यंजनों का वर्गीकरण
7. अंग्रेजी वर्णमाला की सूक्ष्म जानकारी

(i) कण्ठय व्यन्जन - इनका उच्चारण कण्ठ (अल जिह्वा) से होता है। संस्कृत सूत्र- "अ कु ह विसर्जनीयानां कण्ठः" अर्थात् 'अ', 'क' वर्ग और 'ह' का उच्चारण कष्ठ से होता है।
जैसे- 'अ', 'क', 'ख', 'ग', 'घ', 'ह'

(ii) तालव्य व्यन्जन - जब जिह्वा का पिछला भाग कोमल तालु को स्पर्श करता है, तब इन व्यन्जनों का उच्चारण होता है। संस्कृत सूत्र- "इ-चु-य-शानां तालु" अर्थात् 'इ', 'च' वर्ग तथा 'श' का उच्चारण तालु से होता है।
जैसे - 'इ', 'छ', 'ज', 'झ', 'श'

(iii) मूर्धन्य व्यन्जन - इन व्यन्जनों के उच्चारण में जिह्वा नोक कठोर तालु के आगे के भाग को स्पर्श करती है। संस्कृत सूत्र- "ऋ-टु-र-षाणां मूर्धा।" अर्थात् 'ॠ' 'ट' वर्ग और 'श' का उच्चारण मूर्धा से होता है।

(iv) दन्त्य व्यन्जन - वे व्यन्जन जिनके उच्चारण में जिह्वा नोक ऊपरी दाँतों को स्पर्श करती है। संस्कृत सूत्र- "लृ-तु-ल-सानां दन्ता:।" अर्थात् 'लृ', 'त', 'घ', 'द', 'ध', और 'स' का उच्चारण दन्त्य है।

(v) ओष्ठव्य व्यन्जन - वे व्यन्जन जो दोनों ओंठों से उच्चारित होने वाली ध्वनि ओष्ष्ठव्य कहलाते हैं। संस्कृत सूत्र- "उ-पु-उपध्मानीयानाम् ओष्ठौ" अर्थात् 'उ', 'प' वर्ग, 'भ', 'म' का उच्चारण ओंष्ठों से होता है।

(vi) नासिक्य व्यन्जन - जिन वर्णों के उच्चारण में वायु नाक से निकलती है, वे नासिक्य हैं। संस्कृत सूत्र- "ञ-म-ङ-ण-नानां नासिका च" व्यन्जनों के पाँचों वर्ग के पञ्चम वर्ण नासिक्य हैं।
उदाहरण- 'ङ', 'ञ', 'ण', 'न', 'म'।

(vii) वर्त्स्य व्यन्जन - जिन व्यन्जनों के उच्चारण में जीभ की नोक तालू के अन्तिम भाग एवं मसूड़ों को स्पर्श करती है वे वर्त्स्य व्यन्जन कहलाते हैं।
जैसे- 'न्ह', 'न', 'ल', 'र', 'स', 'ज'।

हिन्दी व्याकरण के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।।
1. लिपियों की जानकारी
2. शब्द क्या है
3. लोकोक्तियाँ और मुहावरे
4. रस के प्रकार और इसके अंग
5. छंद के प्रकार– मात्रिक छंद, वर्णिक छंद
6. विराम चिह्न और उनके उपयोग
7. अलंकार और इसके प्रकार

(viii) दन्त्योष्ठय व्यन्जन - जिन व्यन्जनों के उच्चारण में दाँत और ओंठों का प्रयोग होता है वे दन्त्योष्ठय व्यन्जन कहलाते हैं। संस्कृत सूत्र- "ब कारस्य दन्तोष्ठम् " अर्थात् नीचे के ओंठ और ऊपर के दाँत से बोली जाने वाली ध्वनियाँ दन्त्योष्ठ्य हैं।
जैसे - 'फ', 'ब'

(ग) स्वर-तन्त्रियों को आधार पर -

स्वरतन्त्रिय आधार पर व्यन्जनों के दो भेद हैं -
(i) घोष
(ii) अघोष

(i) घोष - जिन ध्वनियों के उच्चारण में स्वरतन्त्रियों के निकट आ जाने से उनके बीच से हवा निकलती तो उनमें कम्पन होता है।
जैसे- हिन्दी में पाँच वर्ग - 'क', 'च', 'ट', 'त', 'प' के तीसरे, चौथे और पाँचवें वर्ण घोष ध्वनि में हैं। ये घोष व्यंजन कहलाते हैं।
उदाहरण- 'ग', 'घ', 'ङ', 'ज', 'झ', 'ञ', 'ड', 'ढ', 'ण', 'द', 'ध', 'न', 'ब', 'भ', 'म'।

हिन्दी व्याकरण के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।।
1. शब्द क्या है- तत्सम एवं तद्भव शब्द
2. देशज, विदेशी एवं संकर शब्द
3. रूढ़, योगरूढ़ एवं यौगिकशब्द
4. लाक्षणिक एवं व्यंग्यार्थक शब्द
5. एकार्थक शब्द किसे कहते हैं ? इनकी सूची
6. अनेकार्थी शब्द क्या होते हैं उनकी सूची
7. अनेक शब्दों के लिए एक शब्द (समग्र शब्द) क्या है उदाहरण
8. पर्यायवाची शब्द सूक्ष्म अन्तर एवं सूची
9. शब्द– तत्सम, तद्भव, देशज, विदेशी, रुढ़, यौगिक, योगरूढ़, अनेकार्थी, शब्द समूह के लिए एक शब्द
10. हिन्दी शब्द- पूर्ण पुनरुक्त शब्द, अपूर्ण पुनरुक्त शब्द, प्रतिध्वन्यात्मक शब्द, भिन्नार्थक शब्द
11. द्विरुक्ति शब्द क्या हैं? द्विरुक्ति शब्दों के प्रकार

(ii) अघोष - जिन व्यन्जनों के उच्चारण में स्वरतन्त्रियाँ न तो निकट आती है और न ही उनके बीच से गुजरती हवा में किसी प्रकार का कम्पन्न होता है, वे अघोष ध्वनि कहलाती है। जैसे- हिन्दी के पाँचों वर्ग के पहले और दूसरे वर्ण अघोष व्यन्जन हैं।
जैसे- 'क', 'ख', 'च', 'छ', 'ट', 'ठ', 'त', 'थ', 'प', 'फ'

(घ) प्राणत्व (वायु के बाहर निकलने) के आधार पर -

प्राणत्व के आधार पर शब्द के दो भेद हैं-
(i) अल्पप्राण
(ii) महाप्राण

(i) अल्पप्राण - जिन वर्णों के उच्चारण में हवा का प्रवाह (मुख से बाहर निकलना) की कम अधिकता रहती है या हवा का बल कम हो, उन्हें 'अल्पप्राण' कहते हैं। संस्कृत सूत्र - 'वर्णानाम् प्रथम, तृतीय, पञ्चमीयणश्च अल्पप्राणाः"।
अर्थात्- 'क', 'ग', 'ङ'
'च', 'ज', 'ञ'
'ट', 'ड', 'ण'
'त', 'द', 'न'
'प', 'ब', 'म'

और 'य', 'र', 'ल','व' व्यन्जन अल्पप्राण हैं।

हिन्दी व्याकरण के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।।
1. 'ज' का अर्थ, द्विज का अर्थ
2. भिज्ञ और अभिज्ञ में अन्तर
3. किन्तु और परन्तु में अन्तर
4. आरंभ और प्रारंभ में अन्तर
5. सन्सार, सन्मेलन जैसे शब्द शुद्ध नहीं हैं क्यों
6. उपमेय, उपमान, साधारण धर्म, वाचक शब्द क्या है.
7. 'र' के विभिन्न रूप- रकार, ऋकार, रेफ
8. सर्वनाम और उसके प्रकार

(ii) महाप्राण - जिन व्यन्जनों के उच्चारण में हवा की अधिकता हो या श्वास बल अधिक हो, अर्थात वायु मुख द्वार से ज्यादा समय तक बाहर निकलती हो उन्हें 'महाप्राण' कहते हैं। महाप्राण के उच्चारण में हवा में अकार जैसी ध्वनि रहती है और इसका उच्चारण श्रम के साथ करना पड़ता है। संस्कृत सूत्र - "वर्णानाम् द्वितीय, चतुर्थी शलश्च महाप्राणाः" अर्थात् 'ख', 'घ', 'छ', 'झ', 'ठ', 'ढ', 'थ', 'ध', 'फ','भ' और 'श', 'ष', 'स', 'ह', व्यन्जन महाप्राण हैं।

इन प्रकरणों 👇 के बारे में भी जानें।
1. मित्र को पत्र कैसे लिखें?
2. परिचय का पत्र लेखन
3. पिता को पत्र कैसे लिखें?
4. माताजी को पत्र कैसे लिखें? पत्र का प्रारूप
5. प्रधानपाठक को छुट्टी के लिए आवेदन पत्र

I Hope the above information will be useful and important.
(आशा है, उपरोक्त जानकारी उपयोगी एवं महत्वपूर्ण होगी।)
Thank you.
R F Temre
rfhindi.com

other resources Click for related information

Watch video for related information
(संबंधित जानकारी के लिए नीचे दिये गए विडियो को देखें।)
  • Share on :

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

  • BY: ADMIN
  • 0

हलन्त का अर्थ, इसके उपयोग एवं प्रयोग के नियम || हलन्तयुक्त एवं हलन्तरहित शब्दों के अर्थ में अंतर || Meaning of Halant and its uses and rules

हिन्दी एवं संस्कृत भाषा में प्रयुक्त एक ऐसा चिन्ह जो वर्णमाला के व्यन्जन वर्णों के नीचे तिरछी रेखा (्) के रूप में लगाया जाता है उसे हलन्त कहते हैं।

Read more



  • BY: ADMIN
  • 0

ध्वनि उच्चारण में 'प्रत्यन' क्या है? || प्रयत्नों की संख्या || 'प्रयत्न' के आधार पर हिन्दी व्यन्जन के भेद

वर्णों या ध्वनियों के उच्चारण में जो प्रयास या रीति का प्रयोग किया जाता है, उसे 'प्रयत्न' कहते हैं।

Read more